Cosmolot

Варто скористатися вітальним бонусом, оскільки він надзвичайно популярний на платформах ставок на спорт. Компанія, яка має багато таких рекламних акцій, займає помітне місце на ринку. У випадку з бонусом cosmolot їх можна спостерігати різними способами, як за допомогою бонусів за перший депозит, так і за допомогою бонусів за реєстрацію Космолот, які повністю вільні від зобов’язань із виплатами Космолот Україна.

Ці акції та пропозиції ви можете отримати відповідно до часу в букмекерській конторі «Космолот», маючи можливість користуватися ними постійно. Ви також можете шукати всі бонуси букмекерів, які ми пропонуємо на нашій платформі cosmolot на jsfilms.com.ua.

गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja) का रहस्य

Home » गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja) का रहस्य
गोवर्धन पूजा 2021 का रहस्य
Spread the love

दीवाली ‘दीयों’ का त्योहार है।  मिठाई, नए कपड़े, रंगोली, पटाखे और उपहार। बच्चे इस त्योहार का बेसब्री से इंतजार करते हैं।  दिवाली को दीपावली, दीवाली या रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है।  दिवाली हर साल अक्टूबर या नवंबर में मनाई जाती है।  दिवाली लगातार पांच दिनों तक मनाई जाती है। पहला दिन धनतेरस (भाग्य का दिन), जो 2 नवंबर, 2021 को पड़ रहा है। दूसरा दिन नरक चतुर्दशी (छोटी दीवाली), जो 03 नवंबर 2021 को पड़ रहा है। तीसरा दिन लक्ष्मी पूजा / दिवाली (प्रकाश का दिन), जो  4 नवंबर अक्टूबर, 2021 को पड़ रहा है। चौथा गोवर्धन पूजा (नया साल) जो 5 नवंबर, 2021 को पड़ रहा है।  पांचवां दिन (भाई-बहनों के बीच प्यार का दिन) जो दिवाली उत्सव भाई दूज का आखिरी दिन है, जो 6 नवंबर, 2021 को पड़ रहा है। 

लक्ष्मी पूजन के अगले दिन गोवर्धन पूजा होती है।  गोवर्धन पूजा हिंदुओं के शुभ त्योहारों में से एक हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक महीने में दिवाली के अगले दिन मनाया जाता है।  गोवर्धन पूजा को “पड़वा” या “वर्षाप्रतिपदा” या “अन्ना-कूट” भी कहा जाता है।  अन्ना-कूट जिसका अर्थ है ‘भोजन का पहाड़’।  गोवर्धन पूजा राजा इंद्र के अहंकार पर श्री कृष्ण की जीत का प्रतीक है।  गोवर्धन पूजा मुख्य रूप से उत्तर भारतीय राज्यों पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार में मनाई जाती है। 

गोवर्धन पूजा का महत्व (Importance of Govardhan Puja)

गोवर्धन पूजा कई तरीकों से की जाती है।  लोग प्रभु के प्रति अपना आभार प्रकट करते हैं।  एक अनुष्ठान में गोवर्धन पर्वत के प्रतीक गाय के गोबर या गंदगी के छोटे-छोटे टीले बनाना शामिल है, जिन्हें बाद में फूलों से सजाया जाता है और बाद में उनकी परिक्रमा करके उनकी पूजा की जाती है।  भगवान गोवर्धन की भी पूजा की जाती है।  लोग श्री कृष्ण के लिए छप्पन या एक सौ आठ प्रकार के विभिन्न व्यंजनों की पेशकश करते हैं और इस प्रसाद को ‘भोग’ कहा जाता है। 

पड़वा (Guru Padva)

‘अमावस्या’ के अगले दिन, जो दिवाली समारोह का चौथा दिन है, उस दिन को भी चिह्नित करता है जब राजा बलि ‘पाताल लोक’ से बाहर आए थे, जो कि निचली भूमि है।  इसके अलावा, यह वह दिन है जब वह ‘भू लोक’ (पृथ्वी) पर शासन करना शुरू कर देंगे, जो उन्हें भगवान विष्णु के आशीर्वाद के रूप में दिया गया था।  इसलिए, इस दिन को ‘बाली पद्यमी’ के नाम से जाना जाता है।  भारत में इसे कई राज्यों में नए साल के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन से विक्रम संवत शुरू होता है। 

गोवर्धन पूजा के पीछे की कहानी (Story of Govardhan Puja)

हिंदू महाकाव्य “विष्णु पुराण” के अनुसार, गोकुल, मथुरा के लोग वर्षा करने के लिए राजा इंद्र की पूजा करते थे।  उनका मानना ​​​​था कि यह वह था जिसने उन्हें उनके कल्याण के लिए बारिश का आशीर्वाद दिया था। लेकिन श्री कृष्ण ने उन्हें समझाया कि यह गोवर्धन पर्वत (मथुरा के पास ब्रज में स्थित एक छोटी सी पहाड़ी) है, जिसके कारण राजा इंद्र नहीं बल्कि वर्षा हुई थी।  इसलिए लोगों ने श्री कृष्ण का अनुसरण किया और राजा इंद्र की पूजा करना बंद कर दिया।

इससे राजा इंद्र वास्तव में क्रोधित हो गए और पूजा न करने के उनके क्रोध के परिणामस्वरूप, गोकुल के लोगों को भारी बारिश का सामना करना पड़ा।  श्री कृष्ण लोगों के बचाव में आए और, उन्होंने लोगों को आश्रय प्रदान करने के लिए अपने दाहिने हाथ की छोटी उंगली पर गोवर्धन पर्वत को छत्र के रूप में उठा लिया। इधर, श्री कृष्ण जी कह रहे हैं कि देवी-देवताओं की पूजा न करें क्योंकि वे अन्न, सुख, जीवन, घर, वर्षा, आश्रय, आनंद आदि के दाता नहीं हैं। हर चीज का दाता सर्वोच्च भगवान है। 

हमारे पवित्र ग्रंथ सच्ची उपासना की बात करते हैं

श्रीमद्भगवद्गीता ने अध्याय 18 श्लोक 62 और 66 में भक्तों से शाश्वत शांति और मोक्ष प्राप्त करने के लिए सर्वोच्च सर्वशक्तिमान भगवान की शरण लेने के लिए कहा है। श्रीमद्भगवद्गीता ने अध्याय 15 श्लोक 17 में परमात्मा का उल्लेख किया है। 

गोवर्धन पूजा का रहस्य 

गोवर्धन श्री कृष्ण धरयो, द्रोणागिरी हनुमंत। 

शेषनाग सारी सृष्टि उठारयो, इनमें कौन भगवंत।। 

कबीर साहेब जी ने अपनी पवित्र वाणी में कहा था कि आप श्रीकृष्ण को परमात्मा इसलिए कहते हैं क्योंकि उन्होंने गोवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठा लिया था।  लेकिन श्री हनुमान के बारे में क्या, जिन्होंने द्रोणागिरी नामक एक समान पर्वत को भी उठा लिया और उसके साथ समुद्र के पार यात्रा की।  आप उसे भी भगवान क्यों नहीं कहते? 

फिर हिंदू पौराणिक कथाओं में “शेषनाग” नामक एक हजार सिर वाला विशाल नाग है, जिसके बारे में कहा जाता है कि वह पूरी पृथ्वी को उठा रहा है।  यदि आप किसी को सर्वोच्च भगवान के रूप में केवल एक पर्वत उठाने की क्षमता के आधार पर संबोधित करते हैं, तो शेषनाग को अन्य सभी देवताओं में सर्वोच्च होना चाहिए।  सर्वशक्तिमान परमेश्वर कबीर हमें यह समझाना चाहते हैं कि श्री कृष्ण सर्वोच्च परमेश्वर नहीं हैं।

■ Also Read: Govardhan Puja 2021 [Hindi]: गोवर्धन पूजा पर जानिए हमें कौनसी भक्ति करनी चाहिए? | SA News Channel

प्राकृतिक तत्वों की पूजा करना हिंदू धर्म में हमेशा से एक प्रथा रही है।  उपासना का मुख्य कारण सदा से ही समाप्त होने वाले प्राकृतिक संसाधनों का सरंक्षण रहा है।  पहाड़ों, पेड़ों, नदियों, पत्थरों, तीर्थयात्रियों, गायों की पूजा करने या ‘ॐ नमः शिवाय‘, राधे-राधे, ‘राधे-राधे श्याम मिला दे’, ‘ओम नमो’ जैसे कुछ मंत्रों का पाठ करने जैसे व्यर्थ गतिविधियों या अनुष्ठानों का अभ्यास करके मोक्ष प्राप्त नहीं किया जा सकता है।  भगवते वासुदेवाय नमः’ आदि, या अधूरे ऋषि से दीक्षा लेना जिसका उल्लेख हमारे पवित्र शास्त्रों में नहीं है।  श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय 7 श्लोक 12 से 15 में पुनः स्पष्ट रूप से कहा गया है कि केवल मूर्ख और पतित लोग ही राक्षसी प्रकृति के तीन गुणों की पूजा करते हैं;  ब्रह्मा-रजगुण, विष्णु-सतगुण और तमगुण-शिव। 

मुक्ति खेत मथुरापुरी वहां, कीन्हा कृष्ण किलोल ओर कंस जैसे चानोर से वहां फिरते डामा डोल। 

अर्थ:- लोगों का मानना ​​है कि मथुरा मोक्ष प्राप्ति का स्थान है क्योंकि श्रीकृष्ण ने अपना बचपन वहीं बिताया था लेकिन वहीं कंश की भी मृत्यु हो गई।  इसलिए यहां किसी भी स्थान की पूजा करना अनिवार्य नहीं है। आप दुनिया में कहीं भी सच्ची पूजा कर सकते हैं। 

हमारे पवित्र ग्रंथ मोक्ष के बारे में बात करते हैं

श्रीमद्भगवद्गीता ने अध्याय 15 श्लोक 17 में परमात्मा का उल्लेख किया है। जब हम एक सच्चे सतगुरु की शरण में होते हैं और उनके मार्गदर्शन में शास्त्र-आधारित पूजा करते हैं, तो हमें हमेशा शांति, धन, स्वास्थ्य, समृद्धि प्राप्त होगी और मोक्ष प्राप्त करने के बाद सांसारिक दबाव से हमेशा के लिए राहत मिलेगी। 

एक सच्चे सतगुरु की पहचान 

श्रीमद्भागवत गीता के अध्याय 15 श्लोक 1 से 4 में एक सच्चे सतगुरु की विशिष्ट विशेषता का विस्तार से वर्णन किया गया है। आज की दुनिया में, पृथ्वी ग्रह पर केवल एक सच्चे सतगुरु है जो न केवल सभी पवित्र शास्त्रों से बल्कि सर्वशक्तिमान और उनके संविधान से भी अच्छी तरह परिचित है।  उन्होंने हमारे पवित्र शास्त्रों में सभी धर्मों के सभी प्रमाणों को खुले तौर पर दिखाया है कि न केवल सर्वशक्तिमान रूप में है बल्कि एक ही समय में आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।  हिसार से संत रामपाल जी महाराज;  हरियाणा वह सच्चे सतगुरु, संत है जो अपने आध्यात्मिक उपदेशों के माध्यम से सर्वोच्च सर्वशक्तिमान परमेश्वर कबीर के बारे में पूर्ण ज्ञान दे रहा है। वेद भी परमात्मा कबीर साहेब की महिमा गाते हैं। 

प्रमाण:- यजुर्वेद अध्याय 5 श्लोक 32 में ईश्वर को परम शान्ति/सुख का दाता बताया गया है।  वह सभी पापों का नाश कर सकता है और उसका नाम कविर्देव (कबीर परमेश्वर) है।  वह मुक्तिदाता भी हैं। इस दीपावली पर आइए जानें और शास्त्र-आधारित ज्ञान के अनुसार सच्ची पूजा को समझें, सच्ची पूजा के सभी लाभ प्राप्त करें और अपने प्रियजनों की सुरक्षा और खुशी सुनिश्चित करें। अधिक विस्तार से जानने के लिए, कृपया www.supremegod.org पर जाएं


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

World Tourism Day 2022: Date, History, Quotes, Celebration and Messages | Tourism in India and Famous Places World Pharmacist Day 2022: Who is the Most Famous Pharmacist in the World?