International Tea Day 2022 [Hindi] | इंटरनेशनल टी डे पर जानिए इसका महत्व, इतिहास और चाय पीने के फायदे

International Tea Day 2022 [Hindi] Theme & Quotes चाय पीने के फायदे
Spread the love

International Tea Day 2022 [Hindi] | भारत में चाय का शुरुआत 18 वीं सदी से मानी जाती है. सबसे पहले बर्मा, म्यांमार और असम की सीमांत पहाड़ियों पर चाय के पौधे लगाने की शुरुआत हुई. पहली बार 21 दिसंबर, 2019 को संयुक्त राष्ट्र संघ  ने 21 मई को  अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाने की घोषणा की.

चाय का इतिहास (History of International Tea Day)

भारत में चाय का शुरुआत 18 वीं सदी से मानी जाती है. सबसे पहले बर्मा, म्यांमार और असम की सीमांत पहाड़ियों पर चाय के पौधे लगाने की शुरुआत हुई. अंग्रेजों के भारत आने के बाद चाय के उत्पादन में तेजी आई. पहले खेती के लिए चीन से बीज मंगवाए जाते थे. कुछ समय बाद असम की मशहूर चाय के बीजों का इस्तेमाल खेती के लिए किया जाने लगा और भारत में बड़े पैमाने पर चाय का उत्पादन शुरू हो गया. 

International Tea Day 2022 की Theme

अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस 2022 की थीम  ‘Celebrating Tea Around The World’ दुनिया भर में चाय का जश्न मनाना है. इसके साथ ही Tea Day एक आदर्श वाक्य के साथ मनाया जाता है जो ‘From Field to Cup’ फील्ड से लेकर कप तक है. 

लाखों लोगों की अजीविका का है साधन

चाय के दीवानें लोग हर गली पर चाय के प्याले की तलाश करते हैं, तो गलियों में चाय बेचने वाले लोगों की अजीविका इन्ही से चलती है. चाय से अपको कई तरह के फायदे मिलते हैं, तो कई लोगों को रोजगार भी. चाय का उत्पादन और उसका व्यापार बहुत से लोगों की आय का साधन है. 

International Tea Day 2022 [Hindi] | भारत में सबसे ज्यादा हैं चाय के शौकीन

चीन के बाद भारत दुनिया का सबसे बड़ा चाय उत्पादक देश है. चाय की लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चाय की खपत के मामलें में भारत विश्व में पहले स्थान पर है. भारत में लोग हर साल लगभग 6,200,000 टन चाय पीते हैं.

हजारों लोगों की आजीविका का आधार

दुनियाभर में चाय का सर्वाधिक उत्पादन एशिया महाद्वीप में होता है। जिसमें भारत, चीन, नेपाल, श्रीलंका और केन्या जैसे देश शामिल हैं। इन देशों में यह चाय पीना रोजाना की दिनचर्या से लेकर, समारोहों में भी सामान्य प्रचलन में है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह आसानी से और बेहद कम लागत में उपलब्ध है। पूर्वोत्तर भारत में भी हजारों लोग चाय बागानों में काम करते हैं। उनकी आजीविका चाय पर ही निर्भर है। इसके लिए एक सुचारू रूप से व्यवसाय प्रबंधन होना बेहद जरूरी है। ताकि, चाय उत्पादक और बागानों के गरीब लोगों अपने मेहनत की लागत निकल सकें।

Also Read | World Soil Day | When and how is World Soil Day celebrated? History, Theme, Importance and Slogans

चाय पीने के फायदे (Benefits Of Drinking Tea)

International Tea Day 2022 [Hindi] | बहुत से लोग अपने दिन की शुरुआत चाय के प्याले के साथ करते हैं. उनका मानना है कि चाय पीने से तनाव, सर्दी या जुकाम जैसी समस्याओं को दूर किया जा सकता है. अगर आप भी चाय पीना पसंद करते हैं तो आज आपके लिए बेहद ख़ास दिन है. आज इंटरनेशनल टी डे है यानी चाय पीने वालों के लिए बेहद ख़ास दिन.लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ आयुर्वेदिक चाय इम्यूनिटी मजबूत करने और सर्दी जुकाम ठीक करने में मददगार होती है. चाय में प्रोटीन,खनिज और ट्रेस तत्व,पॉलीसेकेराइड, पॉलीफेनोल अमीनो और कार्बनिक एसिड, लिग्निन, कैफीन, थियोफिलाइन और थियोब्रोमाइन पाए जाते हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद हो सकते हैं.

पेट की समस्याओं से छुटकारा दिला सकती हैं ये 4 तरह की हर्बल चाय

इतना ही नहीं संयुक्त राष्ट्र ने सभी सदस्य देशों, अंतरराष्ट्र्रीय और क्षेत्रीय संगठनों से अपील की है कि वह हर साल 21 मई को अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाएं। जहां तक 15 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाने की बात है तो भारत, नेपाल, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, श्रीलंका, तंजानिया के अलावा कई और देश इसे मना रहे हैं। हालांकि यूएन द्वारा मई का महीना इसलिए चुना गया, क्योंकि चाय उत्पादन के लिए यह महीना सबसे बेहतर माना जाता है।

Credit: Oneindia Hindi | वनइंडिया हिंदी

अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस (Happy International Tea Day 2022 Quotes)

  • चाय बदनाम हो सकती है बेवफा नहीं?
  • मेरे जज्बातों का कोई तो सिला दो, कभी घर बुला कर चाय ही पिला दो।
  • मान लो मेरी राय, इश्क से बेहतर है चाय।
  • कॉलेज के किस्से पुराने हो गए, चाय पर वक्त गुजारे जमाने हो गए।
  • जो वक्त के साथ बदल जाए वह राय होती है, जब जिंदगी में कुछ नहीं होता तब बस चाय होती है।

इंटरनेशनल टी डे क्यों मनाया जाता है?

21 मई को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस का मुख्य उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चाय के व्यापार, श्रमिकों एवं उत्पादकों पर इसके प्रभाव की ओर दुनिया एवं सरकारों का ध्यान आकर्षित करना है। चाय का उत्पादन और इसकी प्रोसेसिंग लाखों परिवारों के लिए आजीविका का मुख्य साधन है, चाय पर आधारित यह महत्वपूर्ण दिवस चाय के स्थाई उत्पादन, इसकी खपत और व्यापार को बढ़ावा देता है।

Also Read | National Technology day 2022 [Hindi]: कब और क्यों मनाया जाता है नेशनल टेक्नोलॉजी डे, जानें इसका महत्व

चाय के प्रकार (Types of Tea in Hindi)

  1. पुदीना चाय (Mint tea) :
  2. अदरक वाली चाय (Ginger tea)
  3. हल्दी वाली चाय (Turmeric tea)
  4. नींबू की चाय (Lemon Tea):
  5. ग्रीन टी (Green tea): ग्रीन टी सबसे फेमस और एशिया में खासी पसंद की जाती है. इसे वजन कंट्रोल करने में भी काफी कारगर माना जाता है. सभी चायों में से ग्रीन टी कैटेचिन और एपिक्टिंस का सबसे अच्छा स्रोत है. ग्रीन टी शायद सभी चायों में से सबसे अधिक रिसर्च भी की जाती है और इसकी वजह यह है कि इसमे सबसे ज्यादा स्वास्थ्य गुण होते हैं.  यह स्तन, बृहदान्त्र, अंडाशय, गले, फेफड़े, पेट और प्रोस्टेट के कैंसर से बचाता है. 11 साल तक 40,000 जापानी पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया था कि जिन लोगों ने कम से कम 5 कप ग्री टी पी थी उनमें हृदय संबंधी बीमारियों से मरने का जोखिम काफी कम था.
  6. काली चाय-काली चाय की पत्तिया,प्राकृतिक एंजाइमों द्वारा ऑक्सीकरण के कारण पूर्ण किण्वन द्वारा निर्मित होती है. इस बात के प्रमाण बढ़ते जा रहे हैं कि काली चाय में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट विशेष रूप से महिलाओं में धमनियों में रुकावट को कम कर सकते हैं और दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में भी फायदेमंद हो सकते हैं.

चाय से मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ

चाय में कई स्वास्थ्य लाभ भी पाए गए हैं, दुनिया भर में किए गए कई अध्ययनों में इस बात की पुष्टि भी हुई है. पोषक रूप से चाय में प्रोटीन, पॉलीसेकेराइड, पॉलीफेनोल, खनिज और ट्रेस तत्व, अमीनो और कार्बनिक एसिड, लिग्निन, और मिथाइलक्सैन्थिन (कैफीन, थियोफिलाइन, और थियोब्रोमाइन) पाए जाते हैं. चाय के स्वास्थ्य लाभ फाइटोकेमिकल्स से आते हैं जो हमारे शरीर में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.