Cosmolot

Варто скористатися вітальним бонусом, оскільки він надзвичайно популярний на платформах ставок на спорт. Компанія, яка має багато таких рекламних акцій, займає помітне місце на ринку. У випадку з бонусом cosmolot їх можна спостерігати різними способами, як за допомогою бонусів за перший депозит, так і за допомогою бонусів за реєстрацію Космолот, які повністю вільні від зобов’язань із виплатами Космолот Україна.

Ці акції та пропозиції ви можете отримати відповідно до часу в букмекерській конторі «Космолот», маючи можливість користуватися ними постійно. Ви також можете шукати всі бонуси букмекерів, які ми пропонуємо на нашій платформі cosmolot на jsfilms.com.ua.

Lata Mangeshkar Passes Away: नहीं रही महान गायिका लता मंगेशकर, 92 के उम्र में ली आखिरी सांस

Home » Lata Mangeshkar Passes Away: नहीं रही महान गायिका लता मंगेशकर, 92 के उम्र में ली आखिरी सांस
Lata Mangeshkar Passes Away [Hindi] नही रहीं महान गायिका लता मंगेशकर
Spread the love

Lata Mangeshkar Passes Away: देश की मशहूर गायिका और स्वर कोकिला से जाने जानी वाली लता मंगेशकर का निधन हो गया है। उनके निधन से बॉलीवुड इंडस्ट्री में शोक की लहर है। राजनीतिक दलों से लेकर बॉलीवुड से जुड़े दिग्गजों ने उनके निधन को अपूर्णीय क्षति बताया है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट करके ये जानकारी दी। बीते दिन उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया था, जिसके बाद उन्हें आईसीयू से वेंटिलेटर में रखा गया था।

Lata Mangeshkar Passes Away: सुबह 8.12 बजे ली अंतिम सांस

लता जी की कोरोना रिपोर्ट 8 जनवरी को पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि इसके दो दिन बाद यानी 10 जनवरी को इस बारे में सबको पता चला। करीब पांच दिन पहले उनकी सेहत में सुधार होने लगा था। ऑक्सीजन निकाल दी गई थी, पर ICU में ही रखा गया। रविवार सुबह 8.12 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली।

पंचतत्व में विलीन हुईं ‘स्वर कोकिला’ लता मंगेशकर

पंचतत्व में विलीन हो गईं ‘स्वर कोकिला’ लता मंगेशकर. राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्‍कार किया गया. भाई ह्रदयनाथ मंगेशकर ने मुखाग्नि दी. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिवाजी पार्क पहुंचकर लता ‘दीदी’ को अंतिम श्रद्धांजलि दी.

Lata Mangeshkar Passes Away: प्रभु कुंज की आभा गुम हुई

लता मंगेशकर बहन उषा और भाई हृदयनाथ के साथ मुंबई के पेडर रोड स्थित प्रभुकुंज में पहले फ्लोर पर रहती थीं। सालों तक प्रभाकुंज सोसायटी की सुबह लता मंगेशकर के संगीत के रियाज से ही शुरू होती रही। खराब सेहत के कारण करीब चार साल से उनका रियाज बंद सा हो गया था। नवंबर 2019 में भी लताजी को निमोनिया और सांस की तकलीफ के कारण ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तब 28 दिन भर्ती रही थीं। नवंबर 2019 के बाद से उनका घर से निकलना लगभग बंद हो चुका था।

MP के इंदौर में हुआ था जन्म

लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को मध्य भारत के शहर इंदौर में हुआ था. उनके पिता पंडित दीनानाथ मंगेशकर भी एक गायक थे. दीनानाथ मंगेशकर थिएटर कलाकार भी थे जिन्होंने मराठी भाषा में कई संगीतमय नाटकों का निर्माण किया.

यह भी पढ़ें: Lata Mangeshkar Death News: सुर कोकिला लता मंगेशकर का निधन, 92 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

लता मंगेशकर, अपने पिता की पांच संतानों में सबसे बड़ी थीं. बाद में लता के छोटे-भाई बहनों ने भी उनका अनुसरण करते हुए संगीत की दुनिया में क़दम रखा और आगे चल कर भारत के मशहूर गायक बने.

बॉलीवुड इंडस्ट्री ने जताया दुख

लता मंगेशकर के निधन के समाचार से बॉलीवुड इंडस्ट्री में शोक की लहर है। तमाम संगीतकारों ने उनके निधन को बड़ी क्षति बताया है। इससे पहले शनिवार की रोज लता की बहन आशा भोंसले ने अस्पताल पहुंचकर हाल जाना था। जब आशा अस्पताल से बाहर निकलीं थी तो उनके चेहरे पर मायूसी से अंदाजा लग गया था कि लता मंगेशकर की हालत ठीक नहीं है। उसके बाद रविवार यानि आज लता मंगेशकर के निधन की पुष्टि हुई।

Credit: BBC Hindi

भारत रत्न से सम्मानित हुई थी लता मंगेशकर

28 सितंबर 1929 को इंदौर में जन्मी लता मंगेशकर भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका थीं। उनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फिल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है। अपनी बहन आशा भोंसले के साथ लता जी का फिल्मी गायन में सबसे बड़ा योगदान रहा है। लता की जादुई आवाज के भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में दीवाने हैं। लता मंगेशकर को भारत सरकार ने ‘भारतरत्न’ से सम्मानित किया था।

दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित

Lata Mangeshkar Passes Away: लता जी के निधन पर 2 दिन का राष्ट्रीय शोक रहेगा यानी देशभर में झंडा आधा झुका रहेगा और किसी भी तरह के जश्न का कार्यक्रम नहीं होगा। महाराष्ट्र सरकार ने लताजी के सम्मान में सोमवार की सार्वजनिक छुट्‌टी और तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। पश्चिम बंगाल सरकार ने सोमवार को आधे दिन की छुट्टी घोषित कर दी है।

Lata Mangeshkar Passes Away: जब लता ने की एक्टिंग

लता मंगेशकर ने आठ मराठी और हिंदी फ़िल्मों में अभिन भी किया. 1943 में आई मराठी फ़िल्म गजभाऊ में उन्होंने कुछ लाइनें और कुछ शब्द गाए भी थे. ये फ़िल्मों में उनका पहला गीत था. 1947 के आते-आते लता मंगेशकर एक्टिंग कर के हर महीने क़रीब 200 रुपए कमाने लगी थीं.

उन्होंने नसरीन मुन्नी कबीर को एक इंटरव्यू में अपने फ़िल्मी अभिनय के दौर के बारे में कुछ इस तरह बताया था;

”मुझे अभिनय करना कभी पसंद नहीं आया. वो मेक-अप करना, लाइटें, लोगों का आप को निर्देश देना कि ये डायलॉग बोलो और वो बात कहो. इन सब से मैं बहुत असहज महसूस करती थी.”

जब एक बार एक फ़िल्म निर्देशक ने उन्हें अपनी भौंहे कटवाने को कहा, तो लता मंगेशकर को ज़बरदस्त सदमा लगा. निर्देशक ने कहा था कि उनकी भौंहें बहुत मोटी हैं. लेकिन, लता को निर्देशक की बात माननी पड़ी थी.

■ Also Read: Kalpana Chawla Death Anniversary: जानिए कल्पना चावला कैसे बनीं अंतरिक्ष की ‘वंडर वुमन’, ऐसे हुई थी मृत्यु

कारों, कुत्तों और क्रिकेट का शौक

लता मंगेशकर दुनिया के मशहूर संगीतकारों, मोज़ार्ट, बिथोवन, शोपिन, नैट किंग कोल, बीटल्स, बारबरा स्ट्रीसैंड और हैरी बेलाफोंट के बनाए संगीत को सुनना पसंद करती थीं.

  • एक बार वो जर्मन मूल की अमरीकी अभिनेत्री मार्लिन डीट्रिख़ को स्टेज पर अभिनय करते हुए देखने के लिए विदेश तक गई थीं. उन्हें, स्वीडन की अभिनेत्री इनग्रिड बर्गमैन के नाटक देखना भी बहुत पसंद था.
  • लता मंगेशकर को फ़िल्में देखना भी अच्छा लगता था. उनकी सबसे पसंदीदा हॉलीवुड फ़िल्म थी-द किंग ऐंड आई. लता ने एक बार बताया था कि उन्होंने ये फ़िल्म कम से कम 15 बार देखी थी. उनकी दूसरी पसंदीदा हॉलीवुड फ़िल्म थी सिंगिंग इन द रेन.
  • लता को कारों का भी बहुत शौक़ था. ज़िंदगी में अलग-अलग मौक़ों पर उन्होंने भूरे रंग की हिलमैन और नीले रंग की शेवर्ले कार अपने पास रखी थी.
  • इसके अलावा उनके पास क्राइसलर और मर्सिडीज़ कारें भी हुआ करती थीं. घर में लता मंगेशकर ने नौ कुत्ते पाले हुए थे. वो क्रिकेट की भी बहुत बड़ी शौक़ीन थीं.

36 से ज्यादा भाषाओं में गा चुकीं 30 हजार गाने

 28 सितंबर, 1929 को इंदौर में एक मध्यमवर्गीय मराठा परिवार में जन्मी लता (Lata Mangeshkar) का नाम पहले ‘हेमा’ था। हालांकि जन्म के पांच साल बाद माता-पिता ने इनका नाम ‘लता’ रख दिया था। छह दशक से हिन्दुस्तान की आवाज बन चुकीं लताजी ने 36 से ज्यादा भाषाओं में करीब 30 हजार से ज्यादा गाने गाए हैं। 5 भाई-बहनों में सबसे बड़ी लता मंगेशकर ने शादी नहीं की। एक इंटरव्यू में उन्होंने इसकी वजह बताते हुए खुलासा किया था कि आखिर वो ऐसा क्यों नहीं कर पाईं। 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

World Tourism Day 2022: Date, History, Quotes, Celebration and Messages | Tourism in India and Famous Places World Pharmacist Day 2022: Who is the Most Famous Pharmacist in the World?